two teacher’s day poems | गुरु के लिए कवितायें

two teacher’s day poems | गुरु के लिए कवितायें:

मित्रों शिक्षा और शिक्षक इन दोनों का ही हमारे जीवन में बहुत महत्व होता है| एक व्यक्ति के जीवन में यदि एक उत्तम शिक्षक आ जाए तो जीवन को एक सही दिशा प्राप्त हो जाती है मित्रों थोड़े ही दिन बाद , यानि के पाँच सितंबर को हमारे देश में शिक्षक दिवस या “teacher’s day ” मनाया जाएगा | हम हमारे देश के भूपूर्व राष्ट्रपति डॉ ॰ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के जन्मदिन को ” शिक्षक दिवस” के रूप में मनाते हैं |डॉ ॰सर्वपल्ली राधाकृष्णन एक शिक्षक के साथ -साथ एक महान दार्शनिक , राजनेता भी थे |इस दिन हम अपने शिक्षकों को भिन्न- भिन्न तरीकों से सम्मानित एवं प्रसन्न करते हैं | हम  अपने शिक्षक को फूल  ,उपहार ,ग्रीटिंग कार्ड  आदि देकर उनका सत्कार कर सकते हैं | शिक्षक दिवस  के लिए मैंने दो कवितायें लिखी हैं आप  भी इन्हें  अपने गुरु को सुना  सकते हैं |

 

गुरु न हो जीवन में

तो जीवन बिन आधार

गुरु ही होता हांथ पकड़कर

जो सही राह दिखलाए

गुरु के मार्ग दर्शन से

हम शिक्षा का धन पाए

सारी उम्र जो काम में आती

वो सीख गुरु दे जाए

two teacher’s day poems | गुरु के लिए कवितायें

 

 गुरु आप तो पूजनीय हो 

    वास्तव में ब्रह्मा-विष्णु हो 

    अपने बच्चों की ही भांति 

      आप हमारा ध्यान रखते हो 

      अलख ज्ञान की हम में जगाई 

     हममेँ शिक्षा के लिए निष्ठा आई 

    नियमित कर्म करने की हमने

    सीख गुरु ये आपसे पाई

  आप प्रभु का अमूल्य वरदान

  आप मिले हो हम भाग्यवान

 

दोस्तों ये  मेरा एक छोटा सा प्रयास था आप तक “techer’s day” के लिए कुछ कवितायें प्रस्तुत करने का |अगर आपको कोई कविता पसंद आए तो कमेंट बॉक्स में बताएं और इन्हें शेयर भी ज़रूर करें |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *