swacchta abhiyan par kavita | hindi poem on swacchta abhiyan

swacchta abhiyan par kavita |  hindi poem on swacchta abhiyan

दोस्तों swacchata abhiyan हम सब को मिलकर पूरा करना चाहिए, क्योंकि स्वच्छता सिर्फ एक व्यक्ति के करने से कभी पूरी नहीं होती सकती बल्कि हर छोटे बड़े को इस में मिल बाँट कर खुशी- खुशी हिस्सा लेना चाहिए |मित्रों हमारी पिछली पोस्ट में हमने swacchata abhiyan पर कुछ शायरी post करी थी जिसका हमें बहुत अच्छा response मिला है इसलिए हम आज भी  swacch bharat abhiyan से संबन्धित कविता लाये हैं |दोस्तों  “swacch bharat” बापू (महात्मा  गांधी ) का सपना था  जिसे अब हम सब भारत वासियों  को मिलकर के साकार करना है  |

swacchta abhiyan par kavita
swacchta abhiyan par kavita

swacchta abhiyan poem

यह सिर्फ स्वच्छ भारत अभियान नहीं है

बल्कि सुनहरे कल की एक छवि है

आज यदि सब हो जाएँ जागरूक

फिर तो कल हर घर में ही खुशी है

यह सिर्फ स्वच्छ भारत अभियान नहीं है

जहां दिखे कूड़ा और कचरा

उसे उठा डस्टबिन में रखना

बच्चों को भी यही सिखाना

कहीं गंदगी हमें नही है फैलाना

घर और बाहर यही नियम हो

फिर तो बीमारियों की भी कमी हो

क्योंकि ,यह सिर्फ स्वच्छ भारत अभियान नहीं है

बल्कि सुनहरे कल की एक छवि है

सब की ही चाहिए भागीदारी

क्या नौकरीपेशा क्या व्यापारी

जो हो अज्ञान उसे भी समझाओ

स्वच्छता का उसे महत्व बतलाओ

हर एक अपनी सामर्थ करे तो

धरती फिर स्वर्ग सी सुंदर हो जाए

यह सिर्फ स्वच्छ भारत अभियान नहीं है

बल्कि सुनहरे कल की एक छवि है

देश ने हमको बहुत दिया है

जगह-जगह टॉयलेट व्यवस्था है

अब यह है हमारी जिम्मेवारी

देश की धरोहरों को गंदगी से बचाएं

आज से हम सब प्रण ये उठाएँ

तो कल हमारा देश  भी विकसित कहलाए

क्योंकि ,यह सिर्फ स्वच्छ भारत अभियान नहीं है

बल्कि सुनहरे कल की एक छवि है

आज यदि सब हो जाएँ जागरूक

फिर तो कल हर घर में ही खुशी है

दोस्तों हमारे इस पोस्ट swacchta abhiyan par kavita से हमारी भी यह कोशिश है कि हमारे देश कि हर गली  हर मोहल्ला साफ- सुथरा और बीमारी मुक्त बने |आप यह भी पढ़ सकते हैं:-

supanktiyaan.blogspot.in(motivational)

 

Sponsor link :- https://sabkamanoranjan.wooplr.com

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *