gandhi jayanti par kavita aur shayri

gandhi jayanti par kavita aur shayri

दोस्तों आज गांधीजी की 148वीं जयंती है |हम सब के प्यारे थे बापू जिन्हे देश “राष्ट्रपिता” के नाम से भी जानता है|हमारे देश के प्रमुख स्वतन्त्रता सेनानियों में बापू का नाम अहम है|बापू ने हमेशा ही देशवासियों को  सत्य अहिंसा का पाठ पढ़ाया था |अपने इन्ही सिद्धांतों के बल पर उन्होने देश से अंग्रेजों को निकालने में सफलता प्रपट करी |बापू खुद भी खादी कपड़े पहना करते थे और औरों से भी विदेशी वस्तुयों के बहिष्कार करने को कहते थे |वे बिल्कुल साधारण जीवन व्यतीत करना पसंद करते थे |तो अब हम अपनी पोस्ट gandhi jayanti par kavita aur shayri के द्वारा बापू के बारे और भी जानते है |

gandhi jayanti par kavita|गांधी जयंती पर कविता

 

आप थे प्रेम की मूरत बापू

आप थे सत्य अहिंसा की मिसाल

सर पे टोपी हांथ में लाठी लेकर

बने देश की आजादी का आधार

हर तबके को साथ मिलाया

ऊंच -नीच का भेद मिटाया

सत्य-सनातन धर्म अपनाकर

एक- एक दीन को गले लगाया

जाने कितने ही आंदोलन

चाहे असहयोग या दांडी मार्च

करते रहे बिन रुके बिन थके

जब तक हुई ना स्वतंत्रता प्राप्त

वैष्णव जन तो तेने कहिए

प्रिय गीत गाते सदा आप

देश के खातिर न्योछावर कर दी

प्रार्थना करते समय अपनी जान

ये देश है अति भाग्यवान

जन्में आप जैसे हैं लोग महान

सदा अमर रहेंगे आप बापू

आप भारत के कण-कण में

हो विध्यमान

gandhi jayanti par kavita aur shayri

gandhi jayanti par shayri | गांधी जयंती पर शायरी

1.

साधारण से दिखने वाले बापू ने

नामुमकिन को सच करके दिखाया

सिर्फ अहिंसा आंदोलनो के दम पे

अंग्रेजों को भारत से हरा भगाया

2.

सच्चाई और अहिंसा से

जीते जाते बड़े-बड़े संग्राम

बापू मर कर के भी दे गए

विश्व को प्रेम का पेगाम

3.

सीधे और साधारण व्यक्ति को

कमजोर समझ कर कभी ना आंक

जब अपनी पर आ जाता है तो

कर देता विफल दुश्मनों की चाल

 

दोस्तों ये थी गांधीजी को समर्पित हमारी gandhi jayanti par kavita aur shayri  पोस्ट |यदि  पसंद आए तो दोस्तों को भी शेयर करें |आप यह भी पढ़ सकते हैं |

 

 

 

 

 

 

 

 

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *