सैनिक पर कविता “हमारा सुपर हीरो”

दोस्तों आपका फिर से स्वागत है हमारे ब्लॉग पर ,आज हम सैनिक पर एक कविता लेकर के आए हैं जिसका शीर्षक है “हमारा सुपर हीरो ” |दोस्तों वाकई हमारे देश के वो सभी  सैनिक जो ,देश के borders पर दिन- रात ,आंधी – तूफान ,सर्दी-गर्मी ,किसी भी बात की परवाह किए बगैर डटे रहते हैं वो किसी भी hero से कम नहीं होते बल्कि वो सैनिक तो हमारे असली सुपर हीरो होते हैं |

दोस्तों हमारे देश के वीर सैनिकों की विशेषताओं को बयान करती यह कविता आपको ज़रूर अच्छी लगे इसी उम्मीद के साथ मैं लेकर आई हूँ यह कविता :-

सैनिक पर कविता”हमारा सुपर हीरो”

 

 

सैनिक पर कविता

 

एक बच्चे ने हठ लगा ली

पूरी रात जग कर बिता दी

बोला मम्मी से मुझको मिलवाओ

आप एक सुपर हीरो से

मन करता है मेरा उनसे

पास में जाकर शेक हैंड्स करने को

मम्मी ने बहुत था समझाया

पर बच्चे ने कोहराम मचाया

फिर माँ ने भी था दिमाग दौड़ाया

ले पहुंची उसको सरहद के पास

जहां सैनिकों ने एक कैंप लगाया

मिलवा दिया उसने एक सैनिक से

और बच्चे को बतलाई यह बात

यह है हमारा सुपर हीरो

जो देश के लिए यहाँ पर रहता दिन -रात

 

सैनिक पर कविता

 

 यह सैनिक तन-मन से करता ,सुरक्षा देश की

और कठिन से कठिन मौसम झेलता

खतरे भी होते हैं कदम -कदम पर इसके

पर दे -देता देश के दुश्मनों को यह मात

फौलादी सीना इसका ,चील से पेनी इसकी आँख

इरादे इतने ऊंचे इसके कि पर्वत भी हैं जाते काँप

धरति माँ की शान के खातिर यह

न करता अपने प्राणो की भी परवाह

प्रेम इसे भारतमाँ से इतना कि मन को इसके कुछ और नही भाता

फिर बच्चे ने हांथ मिला सैनिक से

जान लिया अपने सुपर हीरो का नाम

मेरे देश के इन सभी super heros को, मेरा भी है कोटि -कोटि प्रणाम |

हमारे प्यारे पाठको अगर आपको यह सैनिकों पर आधारित कविता पसंद आए तो इसे अपने socal acconts पर अवश्य शेयर करें और हमारे फ्री -ईमेल subscription को भी join करें|कविता पढ़ने के लिए आपका बहुत आभार |

आप यह भी पढ़ सकते हैं |

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

25 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *